Power of Thoughts

ashwinthakurblog

Thoughts are more powerful than action; Because Thoughts are creator of actions. So keep in your mind. जो लोग अपनी thoughts नहीं बदल सकते वो लोग कुछ नहीं बदल सकते हैं।

ashwinthakurblogsoch badlo

अगर आप सोचते हैं की आप इसे  कर सकते है तोह निश्चित रूप से आप कर सकते है।  कोई इंसान चाहे दुनिया की हर एक knowledge जान लें , चाहे वो हर subject का knowledge रखे but अगर वो खुद को नहीं समझ पाया अपनी thoughts को नहीं समझ पाया तोह समझ लीजिए वो दुनिया  बड़ा बेकूफ़ इंसान है।

 

जब हम खुद को समझ जाते है , तब कोई हमारे बारे में क्या सोच रहा है हमें कुछ फर्क नहीं पड़ता है जब हमें कोई फर्क न पड़े तोह कुछ भी करे उसका मजा कुछ और ही होता है। 

अपनी thoughts के जरिए आप अपनी हर मुकाम पा सकते है बशर्ते आपकी सोच आपके साथ हो।  आपके सोच आपके साथ रहे का मतलब ये हुआ की आप अपनी सोच हमेशा positive रखे। 

यदि आप दृढ संकल्प और पूर्णता के साथ काम करेंगे तोह सफतलता जरूर मिलेंगी।  जिस thoughts से आप अपनी life को देखेंगे उसी thoughts  से आप Action भी लेंगे।  इसलिए लाइफ में हमेशा अपनी thoughts पर काम करना जरुरी है। 

सफलता हमेशा अकेले में गले लगाती है, लेकिन असफलता हमेशा सबके सामने तमाचा मरती है।  यही ज़िंदगी है। 

सफल वह है जो अपनी दुश्मनो पर नहीं बल्कि खुद की thoughts पर विजय पा ले।

कुछ आसान तरीका से आप अपनी thoughts पर काम कर सकते है।

  1. सबसे पहले positive सोचिए , positive सोचने के लिए आप को अपनी thoughts को काबू में रखना होगा। Thoughts काबू में रखने के लिए आप BOOK पढ़े। 
  2. 30 minutes EXCERICES जरूर करे, Excercise आपको तनाव मुक्त रखता है।
  3. ME TIME का मतलब होता है आप कुछ समय आपके साथ बिताना यानि पुरे दिन में आप कुछ समय अपने खुद के साथ बिताए। अकेले में जा कर बैठे, खुद के बारे में सोचे खुद से question करे उसका answer खोजे।
  4. आप अपना personal dairy बनावे, आपने पुरे दिन में क्या किया है , दूसरे दिन आपको क्या करना है सब कुछ लिख लीजिए।
  5. TO DO LIST और NOT TO DO LIST बहुत जरुरी है, दूसरे दिन हमें क्या करना है उसे भी लिखना जरुरी है उसके साथ में क्या नहीं करना है ये उससे भी ज्यादा जरुरी है।

5 thoughts on “Power of Thoughts”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *